Breaking News
Home » मध्य प्रदेश » ग्वालियर » ग्वालियर – श्री अशोक कुमार वर्मा ने कलेक्टर का पदभार संभाला

ग्वालियर – श्री अशोक कुमार वर्मा ने कलेक्टर का पदभार संभाला

ग्वालियर - श्री अशोक कुमार
ग्वालियर – श्री अशोक कुमार

अधिकारियों से चर्चा कर योजनाओं की वस्तुस्थिति जानी, किसानों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखने के दिए निर्देश
ग्वालियर – भारतीय प्रशासनिक सेवा के वर्ष-2004 बैच के वरिष्ठ अधिकारी श्री अशोक कुमार वर्मा ने ग्वालियर जिले के कलेक्टर का पदभार संभाल लिया है। उन्होंने ग्वालियर के 40वें कलेक्टर के रूप में पदभार ग्रहण किया है। शुक्रवार के पूर्वान्ह में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री शिवम वर्मा ने उन्हें कार्यभार सौंपा। नवागत कलेक्टर श्री अशोक कुमार वर्मा इससे पहले खरगौन में जिला कलेक्टर के रूप में पदस्थ थे।
इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त श्री विनोद शर्मा व अपर कलेक्टर श्री शिवराज वर्मा सहित जिले के सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारी व अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों से चर्चा कर गेंहूँ , चना, सरसों व मसूर उपार्जन तथा पेयजल व्यवस्था सहित सरकार के अन्य उच्च प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों की वस्तुस्थिति जानी। उन्होंने उप संचालक किसान कल्याण व कृषि विकास को हिदायत दी कि विभाग का मैदानी अमला अपने निर्धारित मुख्यालय पर रहकर किसानों को उचित सलाह दें। साथ ही समर्थन मूल्य पर फसल बेचने आ रहे किसानों की मदद करें। श्री वर्मा ने कहा सभी मंडियों में किसानों के लिये छाछ, पेयजल व छाया की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा किसानों को भुगतान में भी कदापि देरी न हो।
कलेक्टर श्री वर्मा ने नगर निगम आयुक्त से शहर की पेयजल व्यवस्था और स्मार्ट सिटी सहित अन्य विकास कार्यों के संबंध में प्राथमिक जानकारी ली। उन्होंने कहा कि वे जल्द ही शहर भ्रमण कर विकास कार्यों की जमीनी हकीकत का जायजा लेंगे। साथ ही विकास कार्यों को और गति देने के प्रयास किए जाएंगे।
अपील कर्ताओं को भी पावती दी जाए
कार्यभार ग्रहण करने के बाद नवागत कलेक्टर श्री अशोक कुमार वर्मा ने कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों के न्यायालयों सहित कलेक्ट्रेट की अन्य शाखाओं का जायजा लिया। उन्होंने सभी एसडीएम एवं उनके प्रवाचकों को निर्देश दिए कि न्यायालय में अपील दर्ज कराने वाले सभी अपील कर्ताओं को अनिवार्यत: पावती दी जाए। उन्होंने कहा कि नोटशीट कम्प्यूटाईज्ड होनी चाहिए। श्री वर्मा ने सभी प्रकरणों को आरसीएमएस सॉफ्टवेयर में दर्ज करने पर भी विशेष जोर दिया। कलेक्टर ने खाद्य शाखा, खाद्य पंजीयन, निर्वाचन, ई-गवर्नेंस, क्षेत्रीय क्षमता संवर्धन केन्द्र, कोषालय जिला शहरी विकास अभिकरण, खनिज, भू-अर्जन इत्यादि शाखाओं का जायजा लिया। साथ ही शासन से प्राप्त आदेशों व निर्देशों का समय-सीमा में पालन करने के निर्देश भी दिए।

Check Also

प्रदेश सरकार ने आम आदमी को खास बनाया – श्रीमती माया सिंह

नगरीय विकास मंत्री विकास यात्रा में शामिल हुईं, 156 लाख लागत के विकास कार्यों का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *